Breaking News

बच्चों के दिल पर नज़र रखेंगी आंगनबाड़ी वर्कर्ज

अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बच्चों के दिल पर नज़र रखेंगी। प्रदेश स्वास्थ्य और सामाजिक एवं अधिकारिता विभाग इस ओर यह प्रस्ताव तैयार कर रहा है, जिसमें दिल से प्रभावित बच्चों को खोज कर उसकी एक रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इस सर्वेक्षण के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी मदद करने वाले हैं। वहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी इस स्टडी में सहयोग करने वाले हैं।

यदि यह प्रस्ताव पास हुआ, तो प्रदेश की यह स्थिति पता चल जाएगी कि आखिर बच्चे किस तरह दिल की बीमारी से ग्रसित हैं। प्रदेश के अस्पतालों में आने वाले प्रभावितों के रिकार्ड पर गौर करें, तो सभी अस्पतालों के पीडियाट्रिक्स ओपीडी का यह आंकड़ा हर दिन बढ़ रहा है।

 दिल में छेद से प्रभावित बच्चों को कैसा आंकड़ा रहा है, हालांकि इस पर स्वास्थ्य विभाग आईसीएमआर के साथ भी काम करने वाला है, लेकिन प्रदेश में दिल के प्रभावित बच्चों की कैसी स्थिति है इस पर डाटा इकट्टठा किया जाना है। अब जल्द ही यह फाइनल कर दिया जाएगा कि आखिर कब तक यह स्टडी शुरू हो पाएगी। यह सर्वेक्षण सबसे पहले शिमला शहर से शुरू होगा,

जिसके बाद कांगड़ा, कुल्लू और हमीरपुर से करने पर विचार किया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक शिमला के  सभी क्षेत्रों के  अस्पतालों क ी स्टडी में उसका सबसे पहले डाटा तैयार किया जाएगा। उसके बाद अन्य जिलों की रिपोर्ट तैयार की जाएगी, जिससे सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के साथ बातचीत की जाएगी।

एक अनुमान के मुताबिक राज्य में हर वर्ष दो सौ नए दिल के रोगी बच्चे प्रदेश के सभी अस्पतालों में आ रहे हैं, लेकिन जांच के दौरान यह देखा जाना है कि आखिर दिल के प्रभावित हो रहे बच्च्चों का आखिर क्या कारण बन रहा है। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग काफी गंभीरता से कदम उठाने वाला है। जानकारी के मुताबिक प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल में किए जाने वाले सर्वेक्षण में कैजुअल्टी में आने वाले बच्चों की भी केस स्टडी की जाने वाली है।

घर-घर जाकर चैक करेंगी कार्यकर्ता


अस्पताल में यह भी देखा जा रहा है कि कई निम्न और मध्य तबका ऐसा है, जो अस्पताल में देरी से पहुंच रहा है। घर जाकर यह भी सर्वेक्षण में देखा जाना है कि किस उम्र और किस तबके से दिल के प्रभावित बच्चे इलाज अस्पतालों में करवाने आ रहे हैं। वहीं, आंगनबाड़ी और स्वास्थ्य कार्यकर्ता घर जाकर यह चैक करेंगे कि घर में कितने ऐसे बच्चे हैं, जो दिल की बीमारी से ग्रसित हैं

No comments